webduniyahindi | श्रावण मास में महामृत्युंजय मन्त्र का 10 गुना फल मिलता है
317
post-template-default,single,single-post,postid-317,single-format-standard,ajax_fade,page_not_loaded,,qode-title-hidden,qode_grid_1300,hide_top_bar_on_mobile_header,qode-content-sidebar-responsive,qode-theme-ver-17.2,qode-theme-bridge,qode_header_in_grid,wpb-js-composer js-comp-ver-5.6,vc_responsive
श्रावण मास में महामृत्युंजय मन्त्र का 10 गुना फल मिलता है

श्रावण मास में महामृत्युंजय मन्त्र का 10 गुना फल मिलता है

श्रावण मास में महामृत्युंजय मन्त्र का 10 गुना फल मिलता है

 

श्रावण मास शिव महिमा के लिए जाना जाता है। श्रावण मास में महामृत्युंजय मन्त्र जपने से अकाल मृत्यु टल जाती है। आरोग्यता की प्राप्ति होती है। और इस माह में इस मन्त्र का जाप करना 10 गुना फल देता है।

 

महामृत्युंजय मंत्र :

 

ॐ त्र्यंबकम यजामहे सुगंधि पुष्टिवर्धनं। उर्वारुक्मिव बन्धनान मृत्योर्मोक्षीय मामृतात  ||

 

 स्नान करते समय शरीर पर लोटे से पानी डालते वक्त इस मंत्र का जाप करने से शरीर स्वस्थ और रोग रहित रहता है।

दूध को निहारते समय इस मंत्र का जाप किया जाये और फिर वः दूध पि लिया जाये तो यौवन की सुरक्षा में भी सहायता मिलती है।

इस मंत्र का जप करने से बहुत सी बाधाएं दूर होती हैं। अतः इस मन्त्र का हमेशा श्रद्धापूर्वक जप करना चाहिए।

 

निम्नलिखित स्तिथियों में इस मंत्र का जाप कराया जाता है।

 

  1. ज्योतिष के अनुसार किसी की कुंडली में ग्रहपीड़ा या दोष है तो इस मंत्र का जप कराया जाता है।

  2. मुकदमा आदि में फसने पर

  3. किसी महारोग से पीड़ित होने पर

  4. धन सम्पदा खोने का अंदेशा हो तब।

  5. हैजा ,प्लेग आदि महामारी से लोग मर रहे हों तब।

  6. धन हानि हो रही हो तब।

  7. मन धार्मिक कार्यों से विमुख हो गया हो।

  8. परस्पर घोर क्लेश हो रहा हो तब।

  9. प्राकृतिक आपदा आने पर।

 

 

ALSO READ :

श्रावण मास क्यों प्रिय है शिव को।

श्रावण मास में शिव को कौन से फूल से प्रसन्न करें।

श्रावण मास में नवग्रहों की शांति के लिए क्या करें।

Loading Facebook Comments ...

Post A Comment