webduniyahindi | इतिहास की सबसे खूबसूरत रानी ,जिन्होंने सोने की मूर्ति को पहनाई थी वरमाला
1516
post-template-default,single,single-post,postid-1516,single-format-standard,ajax_fade,page_not_loaded,,qode-title-hidden,qode_grid_1300,hide_top_bar_on_mobile_header,qode-content-sidebar-responsive,qode-theme-ver-17.2,qode-theme-bridge,qode_header_in_grid,wpb-js-composer js-comp-ver-5.6,vc_responsive
इतिहास की सबसे खूबसूरत रानी ,जिन्होंने सोने की मूर्ति को पहनाई थी वरमाला

इतिहास की सबसे खूबसूरत रानी ,जिन्होंने सोने की मूर्ति को पहनाई थी वरमाला

इतिहास की सबसे खूबसूरत रानी ,जिन्होंने सोने की मूर्ति को पहनाई थी वरमाला

 

आजकल परिवार के न मनाने पर लड़की -लड़के का भागकर शादी करना आम बात है लेकिन आज हम इतिहास की ऐसी रानी के बारे में बताने जा रहे हैं ,जिन्होंने भागकर शादी कर ली  थी। इतिहास में अपनी खूबसूरती के लिए जानी जाने वाली इस राजकुमारी संयोगिता ने भी भागकर शादी की। आइए जानते है इस प्रेम कहानी के बारे में कुछ और दिलचस्प बातें।

इतिहास की सबसे खूबसूरत रानी ,जिन्होंने सोने की मूर्ति को पहनाई थी वरमाला

इतिहास की सबसे खूबसूरत रानी ,जिन्होंने सोने की मूर्ति को पहनाई थी वरमाला

 

कन्नौज के राजा जयचन्द के घर जन्मी राजकुमारी संयोगिता बचपन से ही बेहद खूबसूरत थी। कहा जाता है कि संयोगिता पिछले जन्म में रम्भा नाम अप्सरा थीं। जिसने एक ऋषि के शाप से संयोगिता के रूप में जन्म लिया था। राजकुमारी संयोगिता बचपन से ही पृथ्वीराज की वीरता के किस्से सुनती आ रही थी। पहली बार पृथ्वीराज का चित्र देखने पर ही संयोगिता को उनपर मोहित हो गयी और मन ही मन प्यार करने लगी।

इतिहास की सबसे खूबसूरत रानी ,जिन्होंने सोने की मूर्ति को पहनाई थी वरमाला

इतिहास की सबसे खूबसूरत रानी ,जिन्होंने सोने की मूर्ति को पहनाई थी वरमाला

 

राजा जयचन्द को इस बात का पता लगने पर उन्होंने सांयगीता के लिए स्वयम्बर आयोजित किया और इसमें पृथ्वीराज को आमंत्रित नहीं किया। इसके अलावा उन्होंने पृथ्वीराज का अपमान करने के लिए उनकी सोने की मूर्ति बनवा कर द्वारपाल के रूप में खड़ा कर दिया। जब संयोगिता को इस बात का पता चला तो उसने पृथवीराज की मूर्ति को वरमाला पहनना सोची।

इतिहास की सबसे खूबसूरत रानी ,जिन्होंने सोने की मूर्ति को पहनाई थी वरमाला

इतिहास की सबसे खूबसूरत रानी ,जिन्होंने सोने की मूर्ति को पहनाई थी वरमाला

 

जब वह पृथ्वीराज  की मूर्ति के गले में वरमाला पहनाने जा रही थी तो पृथ्वीराज उनके सामने आकर खड़े हो गए और संयोगिता ने उनके गले में वरमाला डाल दी। इसके बाद पृथ्वीराज संयोगिता को भगाकर दिल्ली ले गए।

Loading Facebook Comments ...
No Comments

Post A Comment