webduniyahindi | शारदीय नवरात्रि :-इस बार नवरात्रि है खास ,इच्छा पूर्ति के लिए ऐसे करें पूजा
1141
post-template-default,single,single-post,postid-1141,single-format-standard,ajax_fade,page_not_loaded,,qode-title-hidden,qode_grid_1300,hide_top_bar_on_mobile_header,qode-content-sidebar-responsive,qode-theme-ver-17.2,qode-theme-bridge,qode_header_in_grid,wpb-js-composer js-comp-ver-5.6,vc_responsive

शारदीय नवरात्रि :-इस बार नवरात्रि है खास ,इच्छा पूर्ति के लिए ऐसे करें पूजा

इस बार नवरात्रि हैं बहुत खास ,इच्छा पूर्ति के लिए ऐसे करें पूजा

 

इस बार शरदीय नवरात्रि पर्व 21 सितंबर से शुरू  हो रहा है। ये नवरात्रि 21 सितम्बर से शुरू होकर 24 सितम्बर तक चलेगी। नवरात्रि में नौ दिन तक सभी देवियों की पूजा आराधना की जाती है। इस त्यौहार में सुहागन हो या कन्या सभी नौ दिन तक व्रत रखते हैं। यह त्यौहार बंगाल समेत पुरे भारत में बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है। इस पूजा में माँ दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है।

नवरात्र मुहूर्त

अश्विनी शुक्ल पक्ष शरदीय नवरात्र गुरुवार के दिन कलश स्थापना की जाएगी। ये नक्षत्र पुरे दिन रहेगा। कलश स्थापना समय 5 :41 ब्ज  से कन्या लग्न 7 :54 बजे तक शुभ चौघड़ियाँ रहेंगी।

नवरात्र में इच्छा पूर्ति के लिए क्या करें

जो लोग  की इच्छा पूर्ति के लिए व्रत रखकर पूजन करते हैं। वे लोग यदि रात्रि में रामरक्षा स्तोत्र का पाठ प्रतिदिन करते हैं तो वह सिद्ध हो जाता है। नौ देवियों को मनाने के लिए नवरात्र नाम इसलिए रखा गया। जिससे भक्तगण रात में समय निकालकर उनकी आराधना कर सकें। यदि किसी को अपने व्यापार में परेशानियां आ रही हैं तो वह लक्ष्मी स्तोत्र का पथ रात में करें। तो वह परेशानियों से छुटकारा प् जायेगा। जो भक्त इतना नहीं कर सकता है वह रात्रि में  जरूर करे। देवी के पूजन में श्रृंगार का सामान जरूर अर्पित करे। क्योंकि देवी को लाल चुनरी और सिंदूर बहुत प्रिय होता है।

कलश स्थापना कैसे करें

  • कलश स्थापित करने के लिए सबसे पहले कलश पर स्वस्तिक बनाएं।
  • कलश के गले में मौली बांधें।
  • कलश में थोड़ा सा गंगाजल डालकर बाकि को साफ़ जल से भरकर रख दें।
  • कलश में साबुत सुपारी ,फूल ,दूर्वा ,इत्र ,पंचरत्न ,तथा सिक्का डालें और पांच प्रकार के पत्ते डालें। कुछ पत्ते थोड़े बाहर दिखाई दें। और ऊपर ढक्क्न लगा दें।
  • इस ढक्क्न पर अक्षत यानि साबुत चावल भर दें।

Loading Facebook Comments ...
No Comments

Post A Comment