webduniyahindi | 10 नवम्बर काल भैरव अष्टमी ,करें ये सरल उपाय सभी कार्य होंगे सिद्ध
1364
post-template-default,single,single-post,postid-1364,single-format-standard,ajax_fade,page_not_loaded,,qode-title-hidden,qode_grid_1300,hide_top_bar_on_mobile_header,qode-content-sidebar-responsive,qode-theme-ver-10.0,wpb-js-composer js-comp-ver-4.12,vc_responsive

10 नवम्बर काल भैरव अष्टमी ,करें ये सरल उपाय सभी कार्य होंगे सिद्ध

10 नवम्बर काल भैरव अष्टमी ,करें ये सरल उपाय होंगे सभी कार्य सिद्ध

 

इस साल 10 नवम्बर  को काल भैरव अष्टमी है। वैसे तो काल भैरव को खुश करना बहुत आसान होता है लेकिन अगर वह रूठ जाये तो मनाना बहुत मुश्किल होता है। आज हम आपको बताएंगे काल भैरव को प्रसन्न करने के सरल उपाय ,इन उपायों से निश्चित तोर पर काल भैरव प्रसन्न होंगे। आइये जाने हैं।

10 नवम्बर काल भैरव अष्टमी ,करें ये सरल उपाय होंगे सभी कार्य सिद्ध

  • रविवार बुधवार या गुरुवार के दिन एक रोटी ले और इस रोटी पर अपनी तर्जनी और मध्यमा ऊँगली से तेल में डुबोकर लाइन खींचे ,इसके बाद यह रोटी किसी भी दो रंग वाले कुत्ते को खाने को दे दें। अगर कुत्ता यह रोटी खा ले तो समझ लें की आपको काल भैरव का आशीर्वाद मिल गया। और यदि कुत्ता रोटी को सुंघकर आगे बढ़ जाये टी इस कार्य को जारी रखें। लेकिन हफ्ते के इन्ही तीन दिनों में (बुधवार ,गुरुवार ,रविवार ) यह उपाय करें क्योंकि ये दिन कालभैरव के लिए माने गए हैं।
  • शनिवार को रात्रि में उड़द के पकोड़े कड़वे तेल (सरसों का तेल ) में बनाएं ,और रात भर उन्हें ढक कर रख दें। सुबह जल्दी उठकर प्रातः 6 -7 के बीच बिना किसी से कुछ बोले घर से निकलें और रस्ते में मिलने वाले पहले कुत्ते को खिला दें। लेकिन याद रखें पकोड़े कुत्ते को देने के बाद पलटकर न देखें। यह प्रयोग सिर्फ रविवार के लिए है।
  • शनिवार के दिन किसी भी काल भैरव का मंदिर खोजें। जिन्हें लगभग लोगों ने पूजना छोड़ दिया हो और रविवार के दिन सुबह सिंदूर तेल ,नारियल, पुए और जलेबी लेकर पहुंच जाएँ। वहां उनका पूजन करें और सात साल के लड़कों को चने चिरोंजी का प्रसाद बाँट दें ,और साथ लिए सामन को भी उन्ही लड़कों को दे दें। इस प्रकार की पूजा से काल भैरव बहुत प्रसन्न होते हैं।
  • रविवार को किसी भी काल भैरव मंदिर में गुलाब ,चन्दन , और गूगल की खुशबूदार 33 अगरबत्ती जलाएं। और पांच नीम्बू पांच गुरुवार काल भैरव को चढ़ाएं।
  • सवा  सो ग्राम काले तिल और सवा सो ग्राम काले उड़द ,11 रूपये सवा मीटर काळा कपड़े में बांधकर पोटली बांधकर काल भैरव के मंदिर में बुधवार को चढ़ा आएं

Loading Facebook Comments ...
No Comments

Post A Comment