webduniyahindi | जुरासिक काल के मगरमच्छ के जीवाश्म खोजे गए
292
post-template-default,single,single-post,postid-292,single-format-standard,ajax_fade,page_not_loaded,,qode-title-hidden,qode_grid_1300,hide_top_bar_on_mobile_header,qode-content-sidebar-responsive,qode-theme-ver-17.2,qode-theme-bridge,qode_header_in_grid,wpb-js-composer js-comp-ver-5.6,vc_responsive
जुरासिक काल के मगरमच्छ के जीवाश्म खोजे गए

जुरासिक काल के मगरमच्छ के जीवाश्म खोजे गए

जुरासिक काल के मगरमच्छ के जीवाश्म खोजे गए

लन्दन मेडागास्कर में प्रागेतिहासिक काल के मगरमच्छ के जीवाश्म मिले हैं। जिसके आरी की धार जैसे विशालकाय दाँत हैं। जो डरावने टी – रेक्स प्रजाति के डायनासोर की तरह हैं। वैज्ञानिकों की इस खोज से नोटोशुचिया वंश की लाखों साल पुरानी  गुत्थी पर प्रकाश डालने की उम्मीद है। जिसके बारे में जुरासिक काल में पता नहीं था।

परभक्षी मगरमच्छ का पूरा नाम रजनंदरोंगोने साकालावे है। जिसका मतलब है। साकालावा क्षेत्र की विशाल छिपकली का पूर्वज।  विशाल दांतो के साथ गहरे और बड़े जबड़े की हड्डियों का आकार टी – रेक्स प्रजाति की तरह है। जिससे पता चला है की ये हड्डी और रेशे जैसे सख्त उत्तक भी खाते हैं।

यह मगरमच्छ इस वंश का सबसे बड़ा और पुराना मगरमच्छ है। जो इस समूह के विकासमूलक इतिहास के साथ शरीर के आकार में बढ़ोत्तरी घटनाओं को दिखता है।

मिलान के प्राकृतिक इतिहास संग्रालय के सिमोन मैगनुको ने कहा कि मेडागास्कर के अन्य भूमि से अलग होने के दौरान के समय में इसकी भौगोलिक स्थिति देशज काल को प्रदर्शित करती है। उन्होंने कहा की साथ ही इससे ये संकेत भी मिलता है की नोटोशुचिया की उतपत्ति दक्षिणी गोंडवाना में हुई होगी। यह शोध ‘पत्रिकां ‘”पीयर्ज “में प्रकाशित हुआ है।

Loading Facebook Comments ...

Post A Comment