webduniyahindi | सेहत के लिए खतरनाक है High Protein
487
post-template-default,single,single-post,postid-487,single-format-standard,ajax_fade,page_not_loaded,,qode-title-hidden,qode_grid_1300,hide_top_bar_on_mobile_header,qode-content-sidebar-responsive,qode-theme-ver-17.2,qode-theme-bridge,qode_header_in_grid,wpb-js-composer js-comp-ver-5.6,vc_responsive

सेहत के लिए खतरनाक है High Protein

सेहत के लिए खतरनाक है High Protein

 

प्रोटीन शरीर के लिए बहुत जरूरी तत्व है।  हड्डियों को पोषण और मांसपेशियों को मजबूती प्रदान करता है। हमारे शरीर का 15 से 20 % भार प्रोटीन के कारण होता है। जो दिल और फेफड़ों के उत्तकों को भी स्वस्थ रखता है। इसके गुणों को देखते हुए वर्कआउट और जिम जा रहे लोग, कई तरह के फ़ूड सप्लीमेंट का सेवन करने लगते हैं।

लेकिन शरीर में अगर प्रोटीन की मात्रा ज्यादा हो जाये तो सेहत संबंधित बहुत सी परेशानियां आ जाती हैं। हालाँकि शुरुवात में इसके लक्षण दिखाई नहीं देते हैं। लेकिन धीरे धीरे इसके लक्षण दिखाई देने शुरू हो जाते हैं।

हाई प्रोटीन क्यों हानिकारक है

सेहत के लिए खतरनाक है High Protein

सेहत के लिए खतरनाक है High Protein

अधिक मात्रा में प्रोटीन  के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। इससे वजन बढ़ना ,किडनी की समस्याएं , डिहाइड्रेशन , हड्डियां  कमजोर होना , जोड़ों में दर्द, कब्ज जैसी समस्याएं हो सकती हैं। क्योंकि शरीर ज्यादा प्रोटीन पचा नहीं पाता है। और ज्यादा सेवन से शरीर में कीटोस की मात्रा बढ़ जाती है।

कीटोस एक विषैला पदार्थ है। जो शरीर को नुकसान पहुँचाना शुरू कर देता  है।इसको बॉडी से बाहर निकलने के लिए पानी का ज्यादा सेवन करना पड़ता है। इसके बिना यह पदार्थ शरीर से बाहर नहीं निकलता है।

किडनी को नुकसान

गुर्दे रक्त में प्रोटीन को शुद्ध करने का काम करते हैं और जब शरीर में प्रोटीन की मात्रा ज्यादा हो जाती है। तो किडनी पर दवाब ज्यादा बढ़ जाता है। किडनी को शरीर से एक्स्ट्रा नाइट्रोजन बाहर निकालने  में ज्यादा महनत करनी पड़ती है। जिससे कई बार किडनी खराब होने का खतरा बढ़ जाता है।

हड्डियां कमजोर होना

डाइट में प्रोटीन युक्त आहार ज्यादा शामिल करने से शरीर में कैल्शियम का अवशोषण भी प्रभावित होने लगता है। जिससे हड्डियों को पर्याप्त पोषण नहीं मिल पाता , जिससे हड्डियां कमजोर हो जाती हैं।

कब्ज

प्रोटीन से युक्त आहार में फाइबर की कमी होती है। और खाना पचाने के लिए फाइबर की जरूरत होती है लेकिन हाई प्रोटीन की वजह से कब्ज की समस्या होने लगती है। और इससे पेट से जुडी और भी परेशानियां शरीर को घेर लेती हैं।

दिल की बीमारी

इससे शरीर में सेचुरेडेड फैट और कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ जाती है। जो कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाकर दिल की बिमारियों का कारण बनती है। जो लोग लम्बे समय तक उच्च प्रोटीन डाइट के लिए मांसाहारी भोजन का सेवन करते हैं उनमें कोलेस्ट्रॉल का स्तर जल्दी बढ़ता है। और ह्रदय रोगों और स्ट्रोक का खतरा भी बढ़ जाता है।

पोषक तत्वों की कमी

प्रोटीन युक्त आहार खाने से भूख कम लगती है। जिससे शरीर में बाकि पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। बॉडी को प्रोटीन के साथ साथ विटामिन ,खनिज पदार्थ ,मिनरल्स और फाइबर की भी बहुत जरूरत होती है। इनकी कमी से सेहत से जुडी परेशानियां और भी बढ़ सकती हैं।

यूरिक एसिड बढ़ जाना

यदि उच्च प्रोटीन डाइट लेते हैं तो यूरिक एसिड बढ़ जाता है। वैसे यूरिक एसिड की समस्या 40 के पार वालों को होती है लेकिन गलत खान पान की वजह से यह परेशानी कम उम्र वाले लोगों को भी हो सकती है। यूरिक एसिड बढ़ जाये तो जोड़ों में दर्द और गठिया होने का खतरा होता है।

वजन के हिसाब से लें प्रोटीन :-

प्रोटीन का सेवन अपने वजन के हिसाब से करें अगर आपका वजन 80 किलोग्राम है तो इसके हिसाब से आपको प्रति किलो 1 ग्राम के हिसाब से प्रोटीन का सेवन करना चाहिए। हालाँकि शारीरिक  श्रम के हिसाब से इसे घटाया या बढ़ाया जा सकता है।

छोटे बच्चे :- प्रतिदिन 10  ग्राम

स्कुल जाने वाले बच्चे :- प्रतिदिन 19 – 34 ग्राम

टीनेजर लड़के :- प्रतिदिन 50 ग्राम

टीनेजर लड़कियां :- प्रतिदिन 46 ग्राम

युवा पुरुष :- प्रतिदिन 52 ग्राम

युवा महिलाएं :- प्रतिदिन 46 ग्राम

यह एक अनुमानित चार्ट है प्रोटीन की मात्रा शारीरिक श्रम और स्वास्थ्य स्तर पर निर्भर करती है।

Loading Facebook Comments ...
No Comments

Post A Comment